जयपुर में बीबियों को बदल बदल कर नई चूत की जमकर कुटाई हुई

 Wife swapping Sex Stories : मैं अभिजात वर्मा आप सभी को अपनी सेक्सी स्टोरी सिर्फ और सिर्फ नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुना रहा हूँ. कई दिनों से विनय की बीबी पूर्वी को चोदने का मन मेरा कर रहा था. कितने दिन हो गये उसकी चूत न ही मारी और ना ही देखी. ये हम दोस्तों के लिए नई बात नही थी. पिछली गर्मी की छुट्टियों में हम नैनीताल गये थे. वहां हम दोनों दोस्तों ने एक दूसरे से बीबियों की अदला बदली कर ली थी. विनय मेरी बीबी गुनगुन को अपने कमरे में ले गया था और मैं उसकी औरत पूर्वी को अपने कमरे में ले गया था. वो सब बहुत ही दिलचस्प और रोमांटिक था और नैनीताल में बिताई उन हसीन रातों को सोचकर आज भी मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

विनय, पूर्वी , गुनगुन और मैंने बहुत शराब पी ली थी. मजाक मजाक में मैंने कह दिया की ‘यार !! काश हमारी बीबियाँ खुले दिमाग की आजाद खयाल वाली होती तो हम लोग अपनी बीबियाँ बदल लेते और एक एक नई चूत मारने को मिलती!’ मैंने कहा. इस पर पूर्वी और गुनगुन मुस्कुराने लगी. फिर उन्होंने इसकी अनुमति दे दी. हम दोनों दोस्त बहुत खुश हो गये थे. हमेशा से ही पूर्वी को लेकर मैं नई नई कल्पनाये करता था. जहाँ मेरी बीबी गुनगुना लम्बी चौड़ी कद काठी की थी और खूबसूरत गांड और मम्मो की मालकिन थी, वही मेरे खास दोस्त विनय की पत्नी छोटे कद की देसी घरेलू माल थी. बहुत ही विनर्म, शर्मीली और संकोची. जबकि मेरी औरत गुनगुन खुलकर प्यार और सेक्स का इजहार करती थी. पूर्वी को ले लेकर मैं तरह तरह की कल्पनाये करता था. अगर मिल जाए तो ऐसे ऐसे चुम्मा लू, ऐसे ऐसे इसके छोटे साइज़ के दूध पियूँ और ऐसे ऐसे उसकी चूत लूँ. वो नैनीताल के पुराने दिन मुझे याद आ गए और पूर्वी की वही पुरानी, पुराने स्वाद वाली चूत का स्वाद मेरे दिमाग में फिरसे छा गया. मैंने फोन उठाया और विनय को लगा दिया. बीबियों को बदल बदल के चोदने वाली इक्षा मैंने फिर से जाहिर कर दी. विनय भी कई दिनों से पूर्वी की वही चूत मार मारके बोर हो चूका था. उसे मेरी चुदासी बीबी गुनगुन की चूत की याद आ रही थी.

इसबार हमदोनो ने जयपुर का टिकट ले लिया. वहां ३ स्टार होटल में हमने २ सुइट बुक कर लिए. ट्रेन से हम दोनों दोस्त अपनी अपनी बीबियों को लेकर जयपुर पहुच गए. ट्रेन में भरपूर मजाक और मनोरंजन मैंने विनय की बीबी पूर्वी संग किया. मन तो कर रहा था की ट्रेन में ही उसे नंगा करके चोद लूँ. पर इंतजार का फल मीठा होता है ये सोचकर मैंने कोई जल्दबाजी करना सही नही समझा. होटल पहुचकर पहले तो हम अपनी अपनी बीबियों संग कमरे में गये. फिर शाम को आराम करके और नहाकर हम चारो बार पर आ गए. मैंने सोडा के साथ व्हिस्की आर्डर की, विद आइस क्यूबस. हम चारो ने काफी शराब पी. फिर मेरी चुदासी और जवान बीबी गुनगुन मेरे दोस्त विनय के साथ डांस फ्लोर पर जाकर डांस करने लगी. तो फिर मैंने भी छोटे कद लेकिन शानदार माल पूर्वी को लेकर डांस फ्लोर पर जाकर डांस करने लगा. फिर हम लोग १० बजे तक डिनर करके अपने अपने कमरे में आ गए. अब हम दोनों दोस्तों ने एक दुसरे से बीबियाँ बदल ली.

विनय मेरी चुदासी औरत गुनगुन को अपने सुइट में ले गया. और मैं पूर्वी को अपने कमरे में ले आया. अब असली खेल शुरू होना था. हालाकि मैंने काफी शराब पी ली थी, पर पूर्वी जैसी हसीन माल के यौवन को देखकर मेरा सारा नशा उतर गया. मुझे ये बिलकुल नहीं नही मालूम की मेरा खास दोस्त विनय कैसी मेरी काम की प्यासी औरत गुनगुन के साथ प्यार कर रहा होगा. पर मैं तो सिर्फ अपने बारे में ही सोच रहा था. पूर्वी सहम कर बेड के दुसरे छोर पर बैठ गयी थी. उसने मेरी बीबी गुनगुन की तरह हल्का टॉप और टाईट जींस पहने थी. मैंने अपनी शर्ट पेंट निकलने लगा. धीरे धीरे मैं सिर्फ बनियान और अंडरविअर में आ गया.

इसके बाद जरूर पढ़ें  Train me dosti aur Hotel me Chudai

‘देखो पूर्वी!!! शर्म संकोच ने कुछ नही होगा. विनय और गुनगुन आपस में मजे मार रहे होंगे, इलसिए अब तुम भी मेरे पास आ जाओ!’ मैंने कहा. पर फिर भी वो शर्म करती रही. मैं तुरंत समझ गया की क्या करना है. मैंने पीछे से पूर्वी को दबोच लिया और सुइट के बेहद नर्म और आलिशान बिस्तर पर खीच लिया. वो नही नही कहती रही बड़े धीमे धीमे स्वर में. मैं खूब समझता था की उसका भी अंदर से चुदवाने का मन है. मैंने उसको दोनों कंधे से पकड़ लिया और पुचकार पुचकार कर किसी छोटे बच्चे की तरह उसके गाल पर मैंने पप्पियों की बरसात कर दी. फिर उसे शक्ति से अपनी ओर उसका मुँह घुमा लिया और पूर्वी के होठ पीने लगा. वो न न करती रही और उसके रसीले छोटे छोटे रसीले संतरे जैसे होठों को चूसने लगा. बड़ी देर में जाकर पूर्वी की संकोच शर्म खत्म हुई. वो वाशरूम गयी और रेड कलर की नाइटी पहनकर अवतरित हुई. चूत पर कोई ब्रा नही थी.

मैंने अपना अंडरविअर निकाल दिया. जैसे ही पूर्वी पास आई मैंने उसे पकड़ लिया और प्यार करने लगा. बड़ी देर तक हम दोनों पति पत्नी की तरह प्यार करते रहे. फिर वो पल आ गया जब मैंने उसकी हल्की नाइटी भी निकाल दी. मैंने उसके मम्मे पीने लगा. हाथ से जोर जोर से मम्मो को हाथ में लेकर दबाता रहा. क्या मस्त मस्त दूध थे पूर्वी के. जब पिछली बार मैंने और विनय ने बीबियों की अदला बदली की थी तब भी मैंने खूब मजे ले लेकर पूर्वी को चोदा था. वो सब पुरानी यादें फिर से ताजा हो गयी थी. पूर्वी के नाक के छेद जरा बड़े थे. जो मुझे अपनी बीबी गुनगुन से जादा सेक्सी लग रहे थे. मैंने बड़ी देर तक पूर्वी के दूध और ओठ पिये फिर उसकी चूत पर आ गया. जहाँ मेरी औरत गुनगुन के चूत बिलकुल सपाट थी और बुर के ओठ बड़े छोटे छोटे थे वही विनय की औरत पूर्वी के चूत के होठ बहुत बड़े बड़े थे और उपर की ओर उठे हुए थे. जैसे ही मैं पूर्वी की चूत के ओंठो को छूने लगा, उससे छेद छाड़ करने लगा, वो मचलने लगी और तड़पने लगी. दोस्तों, ये देखकर मुझे बहुत अच्छा लगा. मैं अपनी ऊँगली से जोर जोर से पूर्वी की लाल चूत के उपर उठे हुए ओंठो पर उसकी क्लिटोरिस को जोर जोर से घिसने लगा जिससे पूर्वी की चूत में खलबली मच गयी और वो अपनी कमर उठाने लगी. मैं बड़ी देर तक पूर्वी की चूत की क्लिटोरिस को ऊँगली से सहलाता और घिसता रहा और पूर्वी को तडपते देखने का सुख लेता रहा.

फिर मैंने अपना मुँह पूर्वी की चूत पर लगा दिया और जीभ निकलकर जोर जोर से पूर्वी की चूत के ओंठ पीने लगा. वो बार बार अपनी गांड उठाने लगी. मैं बड़ी देर तक पूर्वी की चूत पीता रहा जिससे उसकी बुर और भी जादा रसीली हो गयी. मैं जीभ से पूर्वी का सारा रस पी गया और मजे से जीभ चूत के अन्दर डालने लगा. पूर्वी बार बार अपने हाथों से मुझे रोकने लगी. पर मैं साड़ी शरारत करता रहा. कुछ देर में पूर्वी की चूत किसी रसगुल्ले की तरह चासनी से भीग चुकी थी. अब मुझे और जादा चुदास चढ़ गयी. मैंने अपना हाथ पूर्वी के गुलाबी फटे हुए भोसड़े में पेल दिया और ३ ४ ऊँगली एक साथ उसकी रसीली चूत में डालने लगा. इससे उसको आर्टिफीसियल का मजा मिलने लगा. लौड़े से ना सही, हाथ की उँगलियों से वो वो चुदने लगी. पूर्वी ने मेरा हाथ पकड़ लिया. वो आह हा हाहा आह अह करके सिसकारी भर रही थी. अपनी पीठ और कंधे भी उपर की ओर उठा रही थी जब मैं अपनी लम्बी लम्बी उँगलियों से उसकी बुर चोद रहा था.

इसके बाद जरूर पढ़ें  आज मैं संतुष्ट हुई पति के दोस्त ने मेरी वासना शांत की

‘अभिजात जी !! रहने दीजिये प्लीस!! बड़ी जोर की सनसनी मेरे भोसड़े में हो रही है!! प्लीस ऐसा मत करिए!! आपके पास अच्छा खासा लौड़ा है आप उससे मुझे क्यूँ नही चोदते!!..प्लीस अपनी हथेली से मुझे मत चोदिये!!’ पूर्वी ऐसा बार बार कहने लगी. ये देखकर मैं मचल गया और जोर जोर से अपनी हथेली से फच फच की पनीली आवाज करता हुआ पूर्वी की चूत फेटने लगा. उसकी चूत में भूचाल आ चूका था, बिलकुल तुफान खड़ा हो गया था. मैं एक पल को भी नही रुका और अपनी ३ उँगलियों से पूर्वी की चूत फेटता रहा. उसके बाद मैंने पूर्वी के भोसड़े पर लेट गया और जोर जोर से उसकी रसीली चासनी से भीगी चूत मजे लेकर पीने लगा. विनय की मस्त चुदासी बीबी बार बार अपनी गांड, कमर, कंधे और सीना उठाती रही. उसके छोटे छोटे मम्मे अब पहले से बड़े रूप में आ गए थे. पूर्वी चुदासी हो चुकी थी. वो जल्द से जल्द चुदवाना चाहती थी. फिर मैंने उसकी बेचैनी और छटपटाहट दूर कर दी. आखिर मैंने पूर्वी के भोसड़े में अपना बेशकीमती लौड़ा डाल दिया और उसको चोदने लगा.

किसी असली घरेलू माल की तरह पूर्वी तुरंत मजे से चुदवाने लगी और उसने अपनी आँखें बंद कर ली. अपने दोनों पैर हवा में उठा लिए. मैं और जोर जोर से गहरे धक्के देने लगा जिससे बाद में पूर्वी ये सिकायत ना करे की अभिजात भाईसाहब अच्छे से उसको चोद नही पाए. मैंने जोर जोर से कमर चला चला के नशीले धक्के पूर्वी की चूत के छेद में देने लगा. किसी पतिव्रता पत्नी की तरह उसने मुझे दोनों भुजायों में कस लिया. मैंने उसको मस्ती से खाने लगा. मैं जोर जोर से उसको घिसने लगा. चुदवाते चुदवाते उसका मुँह किसी प्यासी मछली की तरह खुल गया था. उसका मुँह बिलकुल मेरे कान के पास था. मेरे ताबडतोड़ धक्कों से मीठी मीठी जो सिककारियां पूर्वी निकाल रही थी वो मुझे बिलकुल साफ साफ़ सुनाई पड़ रही थी. मैंने दावे से कह सकता हूँ की उसको अद्बुत पौरुस प्राप्त हो रहा था. सायद उसका पति विनय भी उसे इतनी बेहतरीन तरह से ना ठोक पाता हो जितना मस्त मैं उसकी पेलाई कर रहा था. पूर्वी के मुँह से निकलती गर्म गर्म हवा ‘नही नही….. नही …आया ऊऊउ आँ आँ माँ माँ मर गई!!!! मर गई!!! की मीठी आवाजें मेरा मनोबल बढ़ा रही थी.

मैं अपनी सरी ताकत बटोर बटोर के गहरे और गहरे धक्के मार रहा था, जिससे उसकी योनी अच्छे से चुदे और उसे चरम सुख प्राप्त हो. बड़ी देर तक मैं उसे ठोकता रहा पर फिर भी मेरे लौड़े से माल नही छूटा. मुझे खुशी हुई की पूर्वी के रूप और सौंदर्य पर मैं तुरंत आउट नही हो गया. वरना लडकों के साथ तो ऐसा होता है की सुंदर लड़कियों को चोदने पर वो जल्दी झड जाते है. मैं बड़ी देर तक पूर्वी को लेता रहा पर भी भी नही झडा. फिर मैंने अपना लौड़ा उसके भोसड़े से निकाल लिया और मोटे लौड़े से पूर्वी के चूत के ओंठो को जोर जोर से घिसने लगा. इस तरह की कामक्रीडा में बहुत मजा आया. मैं लौड़े चूत में डालता और उपर घिसते हुए बाहर निकाल लेता. अंदर डालता और चूत की क्लिटोरिस को लौड़े से घिसने लग जाता. फिर मैंने पूर्वी को पेट के बल लिटा दिया. उसकी दोनों पतली पतली गोरी गोरी नाजुक टाँगे मैंने उपर की तरह उसके नाजुक नर्म चूतड़ों पर मोड़ के रख दी.

पूर्वी की चूत पाने के लिए मुझे जरा नीचे झुकना पड़ा. मैंने लौड़े से विनय की औरत की रसीली चूत आखिर ढूँढ ली. मैं उसको लेने लगा. पीछे से भी काफी नशीली रगड़ चूत में लग रही थी. पूर्वी के दोनों मस्त मस्त गोरे चूतड़ों पर बटुरे उसके दोनों पैर उसे बड़ा कमनीय लुक दे रहे थे. एक शादी शुदा पतिव्रता औरत की चूत लेना बहुत ही सेक्सी बात थी. वरना शादी शुदा औरतों को चोदने खाने को जल्दी जहाँ मिलता है. मैं घप घप करके जरा झुककर पूर्वी की चूत मार रहा था. अब भी वो मादक सिसकरियां ले रही थी. हालाकी अब पूर्वी का मुँह मुझसे बहुत दूर जा चूका था. मैं साफ साफ़ नजदीक से उसकी कामुक सिस्कारियां नही सुन पा रहा था. इस तरह पीछे से मैं आधे घंटे तक पूर्वी की चूत और मारी, फिर गर्म मोम की तरह उसके गुलाबी भोसड़े में मैं झड गया. दिल में चाह उठी की जाऊ विनय में कमरे में जाकर देखू की मेरी आवारा छिनाल बीबी गुनगुन कैसे चुद रही है. फिर सोचा की उनकी प्राईवेसी में दखल देना सही नही होगा. इसलिए गुनगुना को मेरे दोस्त विनय से अपनी मर्जी के मुताबिक चुदवाने दो. यहाँ मेरे पास पूर्वी जैसा मस्त घरेलू सामन है ही.

इसके बाद जरूर पढ़ें  Nani Ki Chudai, Sex With Naani

पूर्वी के लाल भोसड़े में झड़ने के बाद मैं बिस्तर पर सीधा लेता तो पूर्वी को मेरे लौड़े की तलब लगी. वो खुद बिना कहे की मेरे पास आ गयी और झुककर किसी असली रंडी की तरह मेरा लौड़ा मुँह में भरके पीने लगी. पूर्वी के बाल बहुत ही खूबसूरत है. जिस्म भी किसी हसीना से कम नही था. बस थोडा नाजुक थी वो. वहीँ मेरी औरत गुनगुन को चाहे जितने जोर जोर से धक्के चूत में दो, उसे कोई फर्क नही पड़ता था. पर पूर्वी तो प्यार से खाने वाली माल थी. पूर्वी अपने छोटे छोटे बच्चों जैसे हाथो से मेरा लौड़ा मलती रही और मुँह में लेकर चूसती रही. कुछ ही देर में मेरा लौड़ा फिर से सलामी देने लगा. ‘पूर्वी जी !! क्या विनय तुमको पोस बदल बदल के लेता है??…कौन कौन से पोस बनाता है??’ मैंने बड़े प्यार से पूछा

‘हाँ भाई साहब, ये तो बस एक ही मिशनरी स्टाइल में मुझे चोदते है. इनके ऑफिस में इतना काम रहता है की बस किसी तरह जल्दी जल्दी मुझे पेल लेते है और मुझसे अपना पीछा छुड़ा लेते है!!!…इनकी ठुकाई में तो बिलकुल मजा नही आता भाई साहब!!’ पूर्वी बोली. मुझे ये सुनकर अफ़सोस हुआ.

‘कोई बात नही पूर्वी जी!!..आज मैंने भिन्न भिन्न प्रकार से आपके साथ कामक्रीडा करूँगा और आपको हर तरह का यौन सुख आपको दूंगा!!’ मैंने कहा. फिर मैंने उसको कुतिया बना दिया. पूर्वी तुरंत इसके लिए तैयार हो गयी. वो अपने नाजुक कन्धों, गले और सर को बेड पर रखकर झुक गयी और उसने अपना पिछवाड़ा उपर कर दिया. सायद वो डॉगी स्टायल वाली चुदाई के बारे में जानती थी. मैं कुछ देर तक उसके पुष्ट नितम्बो को चूमता चाटता , सहलाता और उनसे खेलता रहा. फिर मैं पीछे से पूर्वी की चूत को पीने लगा. कुछ देर बाद मैंने फिर से अपना मोटा लौड़ा उसके भोसड़े में डाल दिया और उसको पेलने लगा. पूर्वी बहुत सही तरीके से सर के बल बिस्तर पर झुकी थी. क्यूंकि कुछ ही देर में मेरे धक्कों का वेग बढ़ गया था, पर पूर्वी और उसकी चूत अपनी जगह कायम थी. मैं हचर हचर करके उसको खाने लगा. बड़ी देर तक चुदाई के बाद मैंने उसकी फुद्दी में ही आउट हो गया. फिर मैंने उसको गोद में बिठाकर चोदा, लौड़े पर बिठाकर चोदा. दोस्तों ७ दिनों तक हम चारों से जयपुर में प्रवास किया और तरह तरह से एक दुसरे की बीबियों के साथ रतिक्रीडा की. भिन्न भिन्न प्रकार से चुदाई का आनंद उठाया. उसके बाद हम चारो अपने घर लौट आये. ये कहानी आपको कैसी लगी, अपनी कामेट्स नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर जरुर लिखें.



Bhabhi ne chudwai story देवरने किया भाभीको प्रेगनेट होट फोटो60 sal ki Budhi ko chodaमामी की छुड़ाई नामर्द मामा के सामनेमेरी बीबी अपने यार से छुप छुप कर chudvati थीxxx vdio वाप बैटीकुवारी सहेली को बॉयफ्रेंड से छुड़वाया हिंदी कहानीभाई बंहन मे सेक्स उम्र भाई 15 बंहन 14पति पत्नी रात मेँ केसै करते है चुदाईbiwi ko pela storyसेक्स कथा शिला बडी साली मराठीshugart sexy stories Hindicha cha chachi ki chudaiचुत मे लिँगदुल्हन की सुहागरात का सेक्सी वीडियो च**** सहित फोन पढ़ता हुआbur chato na ki kahanidibali me cudane ki kahaniDidi ko pelkar ma banayapapa or bati ka rex khani blackmal bhai sex kahaneसीलबन्द चाची की चूदाईnitu Didi Bhai ki chodaiहवेली मे विधवा माँ की जवानी राजसरमा की काहनीयाsex khani grop biwilund tight ma chutमे सोने का नाटक करती रही ओर देबर चोद दियाबीबी के बदले सास के साथ सुहागरात मनायाराज शर्मा की सेक्स पावर कीrandi ladki ko chod kar rolaya chodadai store hindi storedagi stil me yoni me ling kaise ghusaya jata hai.bhikari.gang.bang.ne.choda.hot.momdibali me cudane ki kahaniलडकि के नाक चाटते चाटते x videoa to z chudai kahaniपति के जाने के बाद पडोसियों के लंड लेती थीhindi sex story lala hi or ldkichudai ki kahani mammiyon ki adala badaliशादिशुदा दिदि के झाँटे/nonveg-stories/office-sex-stories/page/3/chut me chuara hindi sex storydasi me Sadai utarke chodapati ptin xxxhdmare chodaye kar chot fad da bataboy girl ko ghar par chodasasu maa ki chudai video gali meभाभी के बुर चाचा चोदाईsali Ne Jija Ka Pakoda land landदेसी बीएफ चाहिए च** में पानी झड़ते हुए चाहिए च** मुझको पानी माल गिरते हुए चाहिए बीएफ वीडियो मेंविधवा दीदी माँ की तडपती जबानीSir ne chuda lund pe bethake sex khani.नोन वेज सेकस कहानी मा ओर अकलjabardasti chudai video old age aunty hindi me baat. karte huyeBhabhi ko karwa chauth pr chod asex storyमम्मी बनी जेठ जी की रखैल बेटे के सामने/%E0%A4%A8%E0%A4%A8%E0%A4%A6%E0%A5%8B%E0%A4%88-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%9A%E0%A5%8B%E0%A4%A6-%E0%A4%9A%E0%A5%8B%E0%A4%A6-%E0%A4%95%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%9A%E0%A5%82/ma beti bhai se chudakar pragnent hoi bachcha paida ki stori hindi meगंधी सेकसि चुतकुले फोटो कहणीVahini cha gangbang marathi sex storywww.aunty gand dote samy mene gand dekha storyMom ko birthdays MA Bhai nay choot Ka Sath sex storyxxx marathi kahaniHindi besik suhagrat xxx hdमेरे बुर की मुस्त छोड़ै मोठे लुंड से हिंदी कहानीगाउन फुल भाईचाXxx sexy story bap batei.beati na playan kar ka chodaलेडिज डाँ निकली lasben sex storyaसिस्टर की घंड छोड़ीBahan.bhie.boor.chodai.kahneticarni xnxxindan soteley ma oe beta sexy storey audo pron comdamad ji ne jabardasti se mujhe maa banayaअंधेरे में गलती से चूदाई